Parinda Lyrics (Saina’s Anthem) in Hindi/English – Saina, New Hindi Song, 2021

Parinda Lyrics from Saina ft Parineeti Chopra is brand new Hindi song sung by Amaal Malik. Parinda lyrics are written by Manoj Muntashir while its music is given by Amaal Malik himself. Here you can watch youtube video of Parinda Lyrics as given below.

Parinda Lyrics Song Credits:

  • Song: Parinda Lyrics
  • Singer: Amaal Mallik
  • Music: Amaal Mallik
  • Lyrics: Manoj Muntashir
  • Music Label: T-Series

Parinda Lyrics in Hindi

जलना बुझना बुझ के जलना
मारना जीना मार के जीना
माँगने वाली चीज़ नही ये
मौका उसका जिसने छीना

गिरना उतना उठ के चलना
चढ़ जा अंबार ज़ीना ज़ीना
याद रहे ये शर्त सफ़र की
पीछे मूड के देख कभी ना

जीत का जुनून है तो
हार सोचना क्यूँ
जब ज़िंदगी है एक ही
दो बार सोचना क्यूँ

मैं परिंदा क्यूँ बनू
मुझे आसमान बनना है
मैं इक पन्ना क्यूँ राहु
मुझे दास्तान बनना है

मैं परिंदा क्यूँ बनू
मुझे आसमान बनना है

कोई तो वजह है
जो ज़िद पे आदि है ये धड़कने
यही तो मज़ा है
किया जो किसी ने नही हम करे

कोई तो वजह है
जो ज़िद पे आदि है ये धड़कने
हन यही तो मज़ा है
किया जो किसी ने नही हम करे

ललकार की घड़ी है ये
बेकार सोचना है क्यूँ
जब ज़िंदगी है एक ही
दो बार सोचना क्यूँ

मैं परिंदा क्यूँ बनू
मुझे आसमान बनना है
मैं इक पन्ना क्यूँ राहु
मुझे दास्तान बनना है

मैं परिंदा क्यूँ बनू
मुझे आसमान बनना है

सूरज आँख दिखा ले आज
कल तेरी आँख झुकनी है
तेरे अंदर है जितनी आग
यहाँ उससे भी दुगनी है

सूरज आँख दिखा ले आज
कल तेरी आँख झुकनी है
तेरे अंदर है जितनी आग
यहाँ उससे भी दुगनी है

तलवार हाथ में है तेरे
दे मार सोचना क्यूँ
जब ज़िंदगी है एक ही
दो बार सोचना क्यूँ

मैं परिंदा क्यूँ बनू
मुझे आसमान बनना है
मैं इक पन्ना क्यूँ राहु
मुझे दास्तान बनना है

मैं परिंदा क्यूँ बनू
मुझे आसमान बनना है

Parinda Lyrics in English

Parinda Saina Anthem Lyrics in Hindi English - Saina, New Hindi Song, 2021
Parinda Saina Anthem Lyrics in Hindi English – Saina, New Hindi Song, 2021

Jalna bujhna bujh ke jalna
Marna jeena mar ke jeena
Maangne wali cheez nahi yeh
Mauka uska jisne chheena

Girna uthna uth ke chalna
Chadh jaa ambar zeena zeena
Yaad rahe yeh shart safar ki
Peechhe mud ke dekh kabhi na

Jeet ka junun hai to haar sochna kyun
Jab zindagi hai ek hi do baar sochna kyun

Main parinda kyun banu
Mujhe aasmaan ban’na hai
Main ek panna kyun rahun
Mujhe daastan ban’na hai

Main parinda kyun banu
Mujhe aasmaan ban’na hai

Koyi to wajah hai
Jo zid pe addi hai yeh dhadkane
Yehi to wajah hai
Kiya jo kisi ne nahi hum kare

Talwaar hath mein tere
De maar sochna kyun
Jab zindagi hai ek hi
Do baar sochna kyun

Main parinda kyun banu
Mujhe aasmaan ban’na hai
Main ek panna kyun rahun
Mujhe daastan ban’na hai